टीडी कालेज में अनुशासन को पटरी पर लाने की शुरू हुई सख्त कवायद

प्राचार्य प्रोफेसर आलोक सिंह परीक्षा के दौरान खुद चेक कर रहे हैं पूरी आंतरिक व्यवस्था नकल रोकने के लिए परीक्षार्थियों के हथेली तक की हो रही है चेकिंग

आशीष श्रीवास्तव

जौनपुर: शहर के प्रतिष्ठित टीडी कॉलेज को याद करते हुए हर किसी की जुबान पर प्राचार्य हृदय नारायण सिंह का नाम अक्सर ही आ जाता है। कहते हैं उनके समय जो अनुशासन रहा वह फिर दोबारा किसी और प्राचार्य के कार्यकाल में देखने को नहीं मिला ।

कई प्राचार्यो ने प्रयास किया लेकिन उस मुकाम तक पहुंच नहीं पाए, अब मौजूदा समय में कुछ ही महीने पूर्व आयोग से नियुक्त प्रोफेसर आलोक कुमार सिंह ने कालेज परिसर में अनुशासन कायम करने में तन मन से जुटे गये हैं।

इसी क्रम में सोमवार को वीर बहादुर सिंह पूर्वांचल विश्वविद्यालय की परीक्षा के दौरान आंतरिक फ्लाइंग स्क्वाड के साथ प्राचार्य प्रो आलोक सिंह ने साइंस बिल्डिंग, न्यू केमिस्ट्री बिल्डिंग और आर्ट्स बिल्डिंग के पचास से अधिक कक्षाओं परीक्षा के दौरान परीक्षार्थियों की सघन तलाशी ली। उनकी हथेली तक चेक की गई कि इस पर किसी ने कुछ लिखा तो नही है। इस दौरान जो परीक्षार्थी कॉलेज ड्रेस कोड में नहीं थे, उन्हें कड़ी चेतावनी दी गई । उन्हें निर्देश भी दिया गया कि किसी भी दशा में अपने साथ मोबाइल या कोई इलेक्ट्रॉनिक गैजेट नहीं लाएंगे। साथ ही साथ पेन, प्रवेश पत्र ट्रांसपेरेंट पाउच में ही लाएंगे। अन्यथा उन्हें परीक्षा कक्ष में नहीं बैठने दिया जाएगा।

कॉलेज में अराजक तत्वों का प्रवेश पूरी तरह से रोकने के लिए प्राइवेट गनमैन को भी लगाया गया है, जो दिन रात परिसर के भीतर सुरक्षा व्यवस्था में मुस्तैद है । तलाशी अभियान के दौरान डॉ विजय कुमार सिंह ,डॉ अरुण कुमार चतुर्वेदी, डॉ रीता सिंह, डॉ आभा सिंह, डॉक्टर छाया सिंह, डॉ हिमांशु सिंह, डॉ शैलेंद्र सिंह, डॉ शैलेंद्र सिंह व डॉ जितेश सिंह मौजूद रहे।

Comments are closed.