तीसरी लहर के बीच भी मीटर रीडरों को घर घर जाकर लेनी होगी मीटर रीडिंग

विद्युत निगम ने मीटर से ही रीडिंग कराके बिल तैयार करने का निर्णय लिया है। 

अभिषेक ब्याहुत 

नोएडा: कोरोना संक्रमण  की करीब तीसरी लहर के बीच भी मीटर रीडरों को उपभोक्ताओं के घर जाकर मीटर रीडिंग लेनी होगी। पहली लहर के दौरान बगैर रीडिंग के बिल तैयार करने के बाद आई समस्याओं को देखते हुए विद्युत निगम ने मीटर से ही रीडिंग कराके बिल तैयार करने का निर्णय लिया है।
विद्युत निगम के मुख्य अभियंता वीएन सिंह ने बताया कि सभी मीटर रीडरों को दिशा-निर्देश दिए गए है कि निगम की निर्धारित की गई वर्दी पहनकर और गले में आईकार्ड डालकर ही रीडिंग का कार्य करें। कोविड के दौरान मास्क लगाकर और उचित दूरी बनाते हुए अपने आपको संक्रमण मुक्त करते हुए उपभोक्ता के घर रीडिंग का कार्य करें। उपभोक्ता परिसर में जाने से पहले और परिसर से निकलने के साथ ही मीटर रीडर को अपने आपको सेनेटाइज करना होगा। ताकि मीटर रीडर संक्रमित होने से बच सके। इसके साथ ही उपभोक्ता का समय पर और सही बिल भी तैयार करना होगा।
पहली लहर में बिलों को लेकर उपभोक्ताओं को हुई थी काफी समस्याएं
उन्होंने बताया कि कोरोना के पहली लहर के दौरान लॉकडाउन की स्थिति में उपभोक्ताओं के घर रीडिंग नहीं लेकर, केवल औसतन बिल ही तैयार किए गए थे। इस तरह तीन महीने तक बिल तैयार किए गए थे। बिलों को लेकर उपभोक्ताओं की काफी समस्याओं और शिकायतें भी आई है। इस दौरान उपभोक्ता बिल भी जमा करने से बचते रहे। इस तरह की तमाम समस्याओं से निजात पाने के लिए निगम ने विशेष सावधानी बरते हुए मीटर से ही रीडिंग लेने का निर्णय लिया है।

Comments are closed.