विदेश मंत्रालय की संयुक्त सचिव बताने वाली फर्जी आईएफएस पति समेत गिरफ्तार

यूनाइटेड नेशन्स का आई कार्ड और लोगो लगी गाड़ी बरामद

ग्रेटर नोएडा। क्राइम ब्रांच की स्टार-2 टीम और बिसरख पुलिस ने गौड़ सिटी-2 से अपने को विदेश मंत्रालय की संयुक्त सचिव और यूनाइटेड नेशन्स आॅर्गनाइजेशन कौंसिल का अधिकारी बताने वाले उसके पति हर्ष प्रताप सिंह को गिरफ्तार किया है। जोया खान खुद को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की स्पेशल सुरक्षा में तैनात प्रमुख सचिव बताती थी। इसको देखते मेरठ पुलिस ने जोया खान को पीएसओ (प्राइवेट सिक्योरिटी आॅफिसर) दरोगा मोहम्मद आसिफ को तैनात किया था। पकड़े गए आरोपियों के पास से यूनाइटेड नेशन्स आॅर्गनाइजेशन कौंसिल वाशिंगटन डीसी, यूनाइटेड स्टेट डिपार्टमेंट का डिप्लोमेटिक पहचान पत्र, डीएल यूनाइटेड नेशन, दो लैपटॉप, दो वॉकी-टॉकी सेट, 04 मोबाइल फोन, एक पिस्टलनुमा लाइटर, एक एक्सयूवी कार और एक मर्सिडीज कार बरामद हुई है। एक कार पर यूनाइटेड नेशन्स का लोगो लगा हुआ है।

सूरजपुर स्थित पुलिस मुख्यालय में गुरुवार को हुई प्रेस कान्फ्रेंस में एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि मूल रूप से मेरठ की रहने वाली जोया खान अपने को विदेश मंत्रालय की संयुक्त विदेश सचिव बताकर कई बार गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, मेरठ और मुरादाबाद से पुलिस एस्कार्ट और पीएसओ की सेवाएं ली। उसने खुद को आईएफएस बताकर करीब तीन साल से कई जिलों के पुलिस अधिकारियों को धोखा देकर वीआईपी सुविधाएं ले रही थी। उसके साथ सरकारी गनर व एस्कॉर्ट चलती थी। महिला के विदेश में भी कनेक्शन हैं। जोया खान ने कानपुर में एक ज्वाइंट कमिश्नर के बेटे हर्ष प्रताप सिंह से शादी की है। मेरठ के एक डॉक्टर की बेटी जोया खान के मेरठ, दिल्ली, गाजियाबाद और नोएडा समेत कई जगह फ्लैट हैं।

एसएसपी ने बताया कि जोया खान ने यूनाइटेड नेशन्स सिक्योरिटी कौंसिल की फर्जी ईमेल आईडी से सुविधाएं लेने के लिए गौतमबुद्ध नगर, गाजियाबाद, मेरठ और मुरादाबाद के अफसरों को मेल किए। उसने इस ईमेल एड्रेस को गो-डैडी डोमेन से रजिस्ट्रर्ड कराया था। उसका भुगतान जोया खान ने अपने एकाउन्ट से नेट बैंकिंग के जरिये किया था। उन्होंने बताया कि जोया मोबाइल फोन के आउटलुक एप में विभिन्न अफसरों को किए गए मेल और मोबाइल नंबर का ब्योरा मिला है। आरोपी महिला फोन के वायस कन्वर्टर साफ्टवेयर से पुरुष की आवाज में पीए अनिल शर्मा बनकर उच्चाधिकारियों से एस्कार्ट आदि सुविधाओं की मांग करती थी।

एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि 23 मार्च-2019 को जोया खान ने उनसे एस्कार्ट की मांग की थी। जिस पर एसपी ट्रैफिक और प्रोटोकाल कार्यालय ने आरटी संदेश भी जारी किया था। बीते दिनों जोया खान ने बिसरख थाने में भी अपने को विदेश मंत्रालय की संयुक्त सचिव बताकर एक एनसीआर भी दर्ज कराई थी, जिसमें सोसायटी के कुछ लोगों पर इनकी गाड़ी में तोड़फोड़ करने का आरोप लगाया गया था।

Leave A Reply