वयस्‍कों के लिए बूस्टर डोज अभियान: पहले दिन 10K से भी कम लोगों ने लगवाया टीका

-पिछले 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 861 नए केस मिले, छह लोगों की कोरोना संक्रमण के चलते मौत

नई दिल्ली। वैश्विक महामारी कोविड-19 से बचाव के लिए देशभर में 18 वर्ष से अधिक उम्र के सभी लोगों को बूस्टर डोज लगाने का अभियान रविवार से शुरू हो गया। यह बूस्टर डोज कोरोना रोधी वैक्सीन की दूसरी डोज लगने के नौ महीने बाद लगाई जा रही है जिसे आधिकारिक तौर पर सतर्कता डोज नाम दिया गया है। इस डोज की शुरुआत के पहले दिन देशभर में 10 हजार से भी कम लोग बूस्टर डोज लगवाने के लिए टीकाकरण केंद्रों में पहुंचे।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की तरफ से सोमवार को बताया गया कि इस नए अभियान के पहले दिन रविवार को 18-59 वर्ष आयुवर्ग के 9,674 लोगों को सतर्कता डोज लगाई गई। वैसे अब तक कुल 2.43 करोड़ सतर्कता डोज दे दी गई। लाभार्थियों में स्वास्थ्यकर्मी, फ्रंटलाइन वर्कर और 60 साल से अधिक उम्र के लोग भी शामिल हैं।

मंत्रालय के मुताबिक सोमवार सुबह सात बजे तक वैक्सीन की कुल 185.74 करोड़ डोज लगाई जा चुकी थीं। 12-14 वर्ष के आयुवर्ग के 2.22 करोड़ बच्चों व किशोरों को वैक्सीन की पहली डोज दे दी गई है। 15-18 वर्ष के 5.76 करोड़ किशोरों को पहली और 3.96 करोड़ किशोरों को दोनों डोज लगा दी गई हैं।

केंद्रीय स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्रालय की ओर से सुबह आठ बजे अपडेट किए गए आंकड़ों के मुताबिक देश में बीते 24 घंटे में कोरोना के 861 नए केस मिले हैं और छह मौतें हुई हैं, जिसमें केरल से पांच और दिल्ली से एक मौत शामिल है। सक्रिय मामले गिरकर 11,058 रह गए हैं जो कुल मामलों का 0.03 प्रतिशत है।

Comments are closed.