विपणन विभाग ने 30 किमी दूर बना दिया गेहूं खरीद केंद्र, नियमों की उड़ाई धज्जियां

-बिचौलियों को लाभ पहुंचाने के लिए विभागीय स्तर पर की गई बड़ी साजिश, यूपी कोआपरेटिव फेडरेशन लिमिटेड लखनऊ के प्रतिनिधि ने शासन में पत्र भेजकर उठाई जांच की मांग

सुईथाकला, (इंद्रजीत सिंह मौर्य)। स्थानीय विकास खंड के खानपुर में किसानों की सुविधा के लिए विपणन विभाग द्वारा स्थापित किए गए गेहूं क्रय केंद्र को गहरी साजिश करके यहां से 30 किलोमीटर दूर आजमगढ़ शाहगंज सीमा पर स्थित नई सब्जी में मंडी में स्थापित कर दिए जाने से किसानों में खासा आक्रोश बढ़ गया है।

इस केंद्र को सुईथाकला ब्लाक से 25 से 30 किलोमीटर दूर ले जाने के पीछे केंद्र प्रभारी श्रद्धा सिंह की व्यक्तिगत साजिश जुड़ी हुई है। इलाके के लोगों ने आरोप लगाया कि श्रीमती श्रद्धा आजमगढ़ क्षेत्र की निवासी हैं। बिचौलियों से सरकारी दर पर गेहूं की खरीद करने के उद्देश्य से उन्होंने इस केंद्र को सरकार की नीतियों को धज्जी उड़ाते हुए खानपुर गांव से आजमगढ़ सीमा पर लाकर इसलिए स्थापित कर दिया।

ताकि आजमगढ़ जनपद , मऊ , दोहरीघाट, लालगंज, मार्टीनगंज, ठेकमा, बरदह, देवगांव व अन्य पड़ोसी इलाके के बड़े धन्ना सेठों का गेहूं सरकारी दर पर खरीद करके उसे रजिस्टर पर छोटे-छोटे काश्तकारों के नाम पर अंकित किया जा सके। क्योंकि खानपुर गांव में गेहूं की खरीद फरोख्त मामले में किसान हर दिन निगरानी करते हैं। इससे केंद्र प्रभारी व इस गोरखधंधे में शामिल लोग अपनी मंशा में सफल नहीं हो रहे थे। किसानों की आंख में धूल झोंकने के लिए उन्होंने इस केंद्र को नियम विरुद्ध स्थापित कर दिया। जिससे इलाके के किसानों और क्षेत्रीय जनप्रतिनिधियों में खासा आक्रोश है।

इस संबंध में यूपी कोआपरेटिव फेडरेशन लिमिटेड लखनऊ के प्रतिनिधि व जिले के वरिष्ठ भाजपा नेता बेचन सिंह ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, डीएम मनीष कुमार वर्मा, जिला विपणन अधिकारी, एडीएम वित्त एवं राजस्व व खाद्य आयुक्त उत्तर प्रदेश शासन लखनऊ को सोमवार को पत्र भेजकर कड़ी नाराजगी जताई है । उन्होंने कहा कि शीघ्र ही दो दिन में इस केंद्र को पुनः अपने स्थान पर स्थापित नहीं किया गया तो इलाके के किसानों को लेकर बड़ा आंदोलन किया जाएगा।

सिंह ने मांग की है कि दोषी अधिकारी के खिलाफ उच्च स्तरीय जांच कराते हुए संबंधित लोगों के खिलाफ कार्रवाई की जाए। उधर बसिरहा गांव निवासी बड़े किसान गिरीश चंद तिवारी, बालकृष्ण तिवारी, रामचंद्र बिंद, मनवल निवासी पृथ्वी वर्मा, भूसोड़ी निवासी श्री रामसिंह और देव नारायण तिवारी कहा कि मामले की जांच करके दोषी अधिकारी के खिलाफ जल्द कार्रवाई नहीं हुई तो हम लोग प्रदर्शन के लिए बाध्य होंगे।।

दूर होने पर किसानों का खर्च होगा अधिक किराया

सुइथाकलां। स्थानीय विकासखंड के बड़े किसानों की शिकायत है कि यहां से 30 किलोमीटर दूर गेहूं बिक्री के लिए ले जाने पर पूरे दिन का समय बेकार चला जाता है । इसके अलावा गेहूं को ले जाने और वापस लौटने में सैकड़ों रुपया किराया और डीजल खर्च होगा। इस परेशानी की वजह से कोई भी किसान 30 किलोमीटर दूर पर अपना गेहूं बिक्री के लिए नहीं ले जाता । जिसका लाभ बिचौलिया उठाते हुए मनमाने दाम पर किसानों से गेहूं खरीदते हैं। उधर विपणन केंद्र के प्रभारी बड़े किसानों से साजिश करके पिछले दरवाजे से नंबर दो का माल खरीद कर रजिस्टर में किसानों के नाम दर्ज कर देते हैं। यही वजह है कि विपणन विभाग के अधिकारी साजिश के तहत इस केंद्र को यहां से 30 किलोमीटर दूर ले जाकर स्थापित कर दिए हैं।

Leave A Reply