गौतमबुद्ध नगर जिले में एक भी ट्रांसजेंडर ने नहीं किया मतदान

- वोटर लिस्ट में गौतमबुद्ध नगर में 90 और सिकंदराबाद, खुर्जा में हैं 43 ट्रांसजेंडर मतदाता

– सुबोध कुमार –

ग्रेटर नोएडा। जिला प्रशासन की मेहनत रंग लाई और मतदान में ऐतिहासिक वृद्धि दर्ज की गई। लेकिन, प्रशासन का जागरूकता अभियान इस जिले के हजारों ट्रांसजेंडरों तक नहीं पहुंच पाया। जिला निर्वाचन कार्यालय के आंकड़े इस बात की गवाही दे रहे हैं कि इस बार के चुनाव में गौतमबुद्ध नगर जिले के तीनों ही विधानसभा क्षेत्रों में एक भी ट्रांसजेंडर ने वोट नहीं डाला। हालांकि गौतमबुद्ध नगर संसदीय क्षेत्र के सिकन्दराबाद और खुर्जा विधानसभा क्षेत्रों में दो-दो ट्रांसजेंडरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया, जो वोटर लिस्ट में दर्ज इनकी संख्या का सिर्फ 5.72 प्रतिशत है।

जिला निर्वाचल अधिकारी बीएन सिंह ने बताया कि वर्ष-2014 में हुए लोकसभा चुनाव के मुकाबले इस बार के चुनाव में एक लाख 68 हजार 656 अधिक वोटरों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। वर्ष-2019 में नोएडा विधानसभा क्षेत्र में 6,68,095 में से 03 लाख 49 हजार 736 वोट पड़े। यह वर्ष-2014 के मुकाबले 71,483 वोट अधिक हैं। यानि यहां मतदान में 25.69 फीसदी की ऐतिहासिक वृद्धि दर्ज की गई है। दादरी में 5,36,130 मतदाताओं में से 3,26,243 वोटरों ने अपने मताधिकार का इस्तेमाल किया। यह वर्ष-2014 के मुकाबले 77,902 वोट अधिक यानि 31.37 प्रतिशत अधिक है। इसी प्रकार जेवर विधानसभा क्षेत्र में 9.75 फीसदी वोटिंग का इजाफा हुआ। यहां मौजूदा चुनाव में वर्ष-2014 के मुकाबले 19.271 वोट अधिक यानि 2.16.926 लोगों ने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। इस प्रकार गौतमबुद्ध नगर के तीनों विधानसभा क्षेत्रों नोएडा, दादरी और जेवर में हुए मतदान में औसतन 23.29 प्रतिशत का इजाफा दर्ज किया गया है।

बीएन सिंह ने बताया कि इसी प्रकार गौतमबुद्ध नगर संसदीय क्षेत्र के सिकंदराबाद विधानसभा क्षेत्र में 3,82,466 में से 2,52,172 वोट पड़े। यह वर्ष-2014 के मुकाबले 14,200 यानि 5.97 प्रतिशत अधिक है। जबकि खुर्जा विधानसभा क्षेत्र में 3,77,250 में से 2,44,200 वोट पड़े। यह वर्ष-2014 के मुकाबले 11,888 यानि 5.12 प्रतिशत अधिक है। सिकंदराबाद और खुर्जा में वोट प्रतिशत में औसतन 5.55 फीसदी का इजाफा हुआ है। जिला निर्वाचन अधिकारी बीएन सिंह ने बताया कि गौतमबुद्ध नगर संसदीय क्षेत्र के पांचो विधानसभा क्षेत्रों के आंकड़ों के विश्लेषण से पता चला है कि इस संसदीय क्षेत्र में वर्ष-2014 के मुकाबले वर्ष-2019 के लोकसभा चुनाव में 16.30 प्रतिशत अधिक वोटरों ने मतदान किया है। यह चुनाव आयोग के निर्देश पर जिला प्रशासन की ओर से चलाए गए सघन जागरूकता कार्यक्रम से ही संभव हुआ है।

जिला निर्वाचन कार्यालय के ये आंकड़े भारतीय लोकतंत्र के लिए सुखद हैं। लेकिन, हमारे ही समाज का हिस्सा ट्रांसजेंडरों तक चुनाव आयोग का यह अभियान नहीं पहुंच पाया। विभागीय आंकड़े बताते हैं कि नोएडा में 3, दादरी में 73, जेवर में 14, सिकंदराबाद में 23 और खुर्जा में 20 ट्रांसजेंडर मतदाता हैं। हालांकि यह वास्तविक आंकड़े से मेल नहीं खाते हैं। अकेले नोएडा में ही इनकी संख्या दो हजार से अधिक बताई जा रही है। आंकड़े बताते हैं कि गौतमबुद्ध नगर के तीनों विधानसभा क्षेत्रों के कुल 90 ट्रांसजेंडरों में एक ने भी अपने मतदान का प्रयोग नहीं किया। जबकि सिकंदराबाद और खुर्जा विधानसभा क्षेत्रों के 43 में से दोनों ही विधानसभा क्षेत्रों में 2-2 ने वोट डाले। इनके प्रतिशत की बात करें तो यह सिर्फ 5.72 प्रतिशत होता है।

Leave A Reply